घर के अंदर हरियाली के लाभ 


कई रिसर्च में यह साबित हो चुकाहै की ऑफिस में या घर के अंदर लगे पौधे तनाव के स्तर को कम कर मानसिक सेहत में सुधार करते हैं |

खासकर से बड़ी पत्तियों वाले पौधे सकरात्मता के स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं | National Initiative for Consumer Horticulture द्वारा कराये ये शोध में 98 % कर्मचारियों ने माना की हरियाली की वजह से एकाग्रता और उत्पादकता में सुधर हुआ है | वही 30 % लोगों ने माना की वह थकान काम महसूस करते हैं |

प्रकृति यानी हरियाली के करीब रहने का लाभ यह होता है की आप अपने तन और मन  से हमेशा तरोताज़ा महसूस करते हैं, ऐसा एक्सपर्ट्स कहते हैं |
इस साल हुए एक NATIONAL GARDENING SURVEY के अनुसार बागवानी के शौक़ में अमेरिकी करीब ७६ करोड़ लाख रुपए गार्डन की सजावट पे खर्च  चुके हैं |

2014 के बाद युवा पीढ़ी भी बागवानी में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रही है |

ये अचानक बदलाव कैसे गया ?


अगर देखा जाए तो घर में पौधे लगाने का चलन कोई नया नहीं है, लेकिन इन दिनों बागवानी को लेकर जो क्रेज़ युवाओं में देखने को मिल रहा है, वो हैरान कर देना वाला है |

गौर से देखें तो इसके कई पहलु हैं, जैसे सोशल मीडिया | आज का युवा बागवानी को शौकिया तौर पर अपना रहा है | सिर्फ पौधे पर ही नहीं, बल्कि गमलों के डिज़ाइन पर भी ध्यान दिया जा रहा है और इसका श्रेय सोशल मीडिया को दिया जा सकता है | जिसमे instagram सबसे ऊपर साबित हुआ है |

दरअसल instagram पर लोग art और craft को शेयर करते हैं | बागवानी के फोटो को शेयर करना भी लोगों के शौक़ में शामिल हुआ है | एक दूसरे को देखते हुए लोगों ने अपने पौधे के संग्रह में इज़ाफ़ा करना शुरू किया है |

प्रकति के करीब होने का एहसास


आज के युवा अपने अपने हिसाब से जिंदगी जी रहे हैं | कोई अकेला रहना पसंद कर रहा है, तो कुछ परिवार नहीं बढ़ा रहे है |   घर खरीदना भी सबकी प्राथमिकता में नहीं है| ऐसे में लोग प्रकति के करीब जाना पसंद कर रहे हैं | ऐसे में बागवानी के शौक़ के जरिये मानसिक सुकून की उनकी तलाश भी पूरी हो रही है | पालतू जानवर या किसी और चीज़ के मुक़ाबले बागवानी को कम देखभाल की जरुरत होती है | कम खर्च में भी पेड़ पौधे सकारात्मक ऊर्जा का एहसास करते हैं |

हरियाली पे हुए शोधों को माने तो आपके आस पास की हरियाली रक्तचाप को कम करने में मदद करती है | साथ ही कार्यस्थल पर  ध्यान बढ़ाते हुए तनाव के सस्तर को भी कम करती है | कार्यस्थल पर डेस्क पर रखे पौधे की हरियाली से आँखों को भी सुकून मिलता है |

बहरहाल बागवानी का यह बढ़ता क्रेज़ चाहे जिस वजह से हो, एक्सपर्ट्स इससे अच्छा ही मान रहे हैं | खुद की सेहत के लिए भी और बिगड़ते पर्यावरण की सेहत के लिए भी | 

 

Comments